एयर इंडिया के पायलटों ने दी नौकरी छोड़ने की चेतावनी, बोले- अब काम करना संभव नहीं


विज्ञापन विज्ञापन Home › Industry › Industry Diary › air india pilots threatens to prevent job, says can now not work on this comprise of atmosphere {“_id”: “5e0369b18ebc3e881f4dc79e”,”slug”: “air-india-pilots-threatens-to-stop-job-says-can-t-work-in-this-kind-of-atmosphere”,”kind”: “anecdote”,”standing”: “publish”,”title_hn”: “u090fu092fu0930 u0907u0902u0921u093fu092fu093e u0915u0947 u092au093eu092fu0932u091fu094bu0902 u0928u0947 u0926u0940 u0928u094cu0915u0930u0940 u091bu094bu0921u093cu0928u0947 u0915u0940 u091au0947u0924u093eu0935u0928u0940, u092cu094bu0932u0947- u0905u092c u0915u093eu092e u0915u0930u0928u093e u0938u0902u092du0935 u0928u0939u0940u0902″,”class”:{“title”: “Industry Diary”,”title_hn”: “u092cu093fu091cu093cu0928u0947u0938 u0921u093eu092fu0930u0940″,”slug”: “enterprise-diary”}} एयर इंडिया के पायलटों ने दी नौकरी छोड़ने की चेतावनी, बोले- अब काम करना संभव नहीं बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Up so far Wed, 25 Dec 2019 07: 22 PM IST ख़बर सुनें ख़बर सुनें कर्ज और घाटे के बोझ तले दबी सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया के पायलटों ने बकाया भुगतान व सेवा नियमों को लेकर नाराजगी जताई है। वाणिज्यिक पायलटों के संगठन आईसीपीए ने सरकार को नौकरी छोड़ने की चेतावनी देते हुए कहा है कि अनिश्चितता के मौजूदा माहौल में काम करना संभव नहीं है। इंडियन कॉमर्शियल पायलट एसोसिएशन (आईसीपीए) ने एक दिन पहले नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी को पत्र लिखकर जल्द बकाया भुगतान दिलाने की मांग की थी। संगठन ने बुधवार को कहा कि या तो सरकार उनके बकाए का भुगतान कराए अथवा बिना नोटिस पीरियड के नौकरी छोड़ने की इजाजत दे। वेतन में दिक्कतों की वजह से sixty five पायलट इस्तीफा दे चुके हैं, जो 6 महीने का नोटिस पीरियड काट रहे हैं। एयर इंडिया के करीब 800 पायलटों का प्रतिनिधित्व करने वाले आईसीपीए ने कहा, सरकार का यह बयान कि 31 मार्च, 2020 तक कंपनी को बेचा नहीं गया तो बंद करना पड़ेगा, काफी निराशाजनक है। अनिश्चितता के ऐसे माहौल में करना संभव नहीं है। हम बंधुआ मजदूर नहीं हैं। लिहाजा सरकार हमें बिना नोटिस के नौकरी छोड़ने की इजाजत दे। हमारे अलाउंस और वेतन में देरी की वजह से होम लोन सहित अन्य तरह के कर्ज डिफाल्ट हो रहे हैं। नौकरी छोड़ने पर कंपनी वापस मांग रही वेतन एयर इंडिया का प्रबंधन नौकरी छोड़ने वाले कर्मचारियों को रोकने के लिए दबाव बना रहा है। कंपनी के आर्थिक संकट को देखते हुए कई पायलट और इंजीनियर नौकरी छोड़ रहे हैं। इनमें से कई इंजीनियर्स ट्रेनिंग के तत्काल बाद नौकरी छोड़ना चाहते हैं। ऐसे कर्मचारियों से कंपनी ट्रेनिंग का खर्च और वेतन वापस मांग रही है। इसमें हॉस्टल का खर्च और टीए-डीए भी शामिल होगा। कर्ज और घाटे के बोझ तले दबी सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया के पायलटों ने बकाया भुगतान व सेवा नियमों को लेकर नाराजगी जताई है। वाणिज्यिक पायलटों के संगठन आईसीपीए ने सरकार को नौकरी छोड़ने की चेतावनी देते हुए कहा है कि अनिश्चितता के मौजूदा माहौल में काम करना संभव नहीं है। विज्ञापन इंडियन कॉमर्शियल पायलट एसोसिएशन (आईसीपीए) ने एक दिन पहले नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी को पत्र लिखकर जल्द बकाया भुगतान दिलाने की मांग की थी। संगठन ने बुधवार को कहा कि या तो सरकार उनके बकाए का भुगतान कराए अथवा बिना नोटिस पीरियड के नौकरी छोड़ने की इजाजत दे। वेतन में दिक्कतों की वजह से sixty five पायलट इस्तीफा दे चुके हैं, जो 6 महीने का नोटिस पीरियड काट रहे हैं। एयर इंडिया के करीब 800 पायलटों का प्रतिनिधित्व करने वाले आईसीपीए ने कहा, सरकार का यह बयान कि 31 मार्च, 2020 तक कंपनी को बेचा नहीं गया तो बंद करना पड़ेगा, काफी निराशाजनक है। अनिश्चितता के ऐसे माहौल में करना संभव नहीं है। हम बंधुआ मजदूर नहीं हैं। लिहाजा सरकार हमें बिना नोटिस के नौकरी छोड़ने की इजाजत दे। हमारे अलाउंस और वेतन में देरी की वजह से होम लोन सहित अन्य तरह के कर्ज डिफाल्ट हो रहे हैं। नौकरी छोड़ने पर कंपनी वापस मांग रही वेतन एयर इंडिया का प्रबंधन नौकरी छोड़ने वाले कर्मचारियों को रोकने के लिए दबाव बना रहा है। कंपनी के आर्थिक संकट को देखते हुए कई पायलट और इंजीनियर नौकरी छोड़ रहे हैं। इनमें से कई इंजीनियर्स ट्रेनिंग के तत्काल बाद नौकरी छोड़ना चाहते हैं। ऐसे कर्मचारियों से कंपनी ट्रेनिंग का खर्च और वेतन वापस मांग रही है। इसमें हॉस्टल का खर्च और टीए-डीए भी शामिल होगा।.

Previous Her Christmas desire was to aid pets, so she obtained 600 extra pounds of animal food rather than playthings
Next NRA breaking down under rumor, criminal examination

No Comment

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *